Friday, January 9, 2015

खिलाडिय़ों की उम्मीदें होंगी जवां
बीस गांवों में बनेंगे खेल मैदान
चूरू। खेल मैदान के अभाव में गांव के गुवाड़ में खेलने को मजबूर खिलाडिय़ों की उम्मीदें अब जवां होंगी। खेल महकमे की ओर से खिलाडिय़ों को गांव में खेल मैदान की सुविधा मुहैया करवाई जाएगी। केन्द्र सरकार ने पंचायत युवा क्रीड़ा और खेल अभियान (पायका) के अन्तर्गत जिले के बीस गांवों में खेल मैदान बनाने के लिए साढ़े ग्यारह लाख रुपए स्वीकृत किए हैं।
आधिकारिक जानकारी के अनुसार खेल मैदान गांव ढाढऱ, लम्बोर बड़ी, सिद्धमुख, अड़सीसर, मेलूसर, भालेरी, रैयाटुण्डा, सात्यूं के राजकीय माध्यमिक विद्यालय व गांव नौरंगपुरा, मेलूसर, पडि़हारा, देराजसर, मालकसर, मलसीसर, साण्डवा, धीरवास बड़ा के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय तथा गांव रामपुरा, बुचावास व साहवा में जिला खेल अधिकारी के नाम से आवंटित भूमि पर बनाया जाएगा।
ये मिलेगी सुविधाअभियान के तहत खिलाडिय़ों को कबड्डी, खो-खो, वॉलीबाल, हॉकी व फुटबाल के मैदान की सुविधा एक ही स्थान पर उपलब्ध होगी। खेल मैदान से विद्यार्थियों के साथ-साथ गांव के युवा भी लाभान्वित हो सकेंगे। प्रत्येक गांव में खेल मैदान पर कम से कम पचास हजार खर्च किए जाएंगे। रतनपुरा को विशेष पैकेजअभियान के अन्तर्गत जिले के बीस गांवों में से सादुलपुर तहसील के गांव रतनपुरा को विशेष पैकेज दिया गया है। गांव के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय की भूमि पर बनने वाले खेल मैदान पर पचास हजार रुपए की बजाय ढाई लाख रुपए खर्च किए जाएंगे। खेल महकमे की मंशा इस गांव को खेल सुविधाओं की दृष्टि से आदर्श गांव बनाने की है।
-----
जिले के बीस गांवों में खेल मैदान बनाने की कवायद शुरू हो चुकी है। इनमें रतनपुरा में खेल मैदान पर विशेष राशि खर्च की जाएगी। खेल मैदान चालू वर्ष में बनने की उम्मीद है।
-मनीराम नायक, जिला खेल अधिकारी, चूरूप्रस्तुतकर्ता विश्वनाथ सैनी

No comments:

Post a Comment

हिसाब-किताब

विजेट आपके ब्लॉग पर

ब्लॉग पर अपनी भाषा चुनें