Thursday, April 22, 2010

कम बोएंगे कम ही काटेंगे

खरीफ की बुवाई घटने का अनुमान, विभाग ने तय किए लक्ष्य
चूरू, 22 अप्रेल। कृषि विभाग ने खरीफ की बुवाई व उत्पादन के लक्ष्य तय कर लिए हैं। इस बार बुवाई क्षेत्रफल घटने के साथ ही प्रति हैक्टेयर हजारों किलोग्राम उत्पादन औंधे मुंह गिरने का अनुमान है। विभाग ने खरीफ फसलों के १२ हजार 400 क्विंटल बीज तथा 4 हजार 300 मेट्रिक टन उर्वरक भी मुख्यालय से मांग लिए हैं।
विभागीय जानकारी के अनुसार इस बार 11 लाख 32 हजार हैक्टेयर में खरीफ फसलों की बुवाई होने का अनुमान है, जो गत वर्ष की वास्तविक बुवाई से 51 हजार हैक्टेयर कम है।
मौसम मेहरबान रहा तो इस बार कम से कम जिले में खरीफ की 5 लाख 15 हजार मेट्रिक टन पैदावार होने की उम्मीद है। हालांकि गत वर्ष 5 लाख 31.5 हजार मेट्रिक टन पैदावार हुई थी।
इसी प्रकार खेतों में प्रति हैक्टेयर उत्पादन भी घटेगा। इस बार बाजरा, मूंग, मोठ, मूंगफली, तिल व ग्वार का प्रति हैक्टेयर 3 हजार 295 किलोग्राम उत्पादन होने का अनुमान है। जबकि गत वर्ष प्रति हैक्टेयर 4 हजार 8 25 किलोग्राम उत्पादन प्राप्त हुआ था।

इतने बीज मांगें
फसल मात्रा
बाजरा 4600
मूंग 2300
मोठ 4500
ग्वार 1000
(आंकड़े क्विंटल में)

इतनी चाहिए खाद
खाद मात्रा
यूरिया 3000
डीएपी 1000
एसएसपी 200
एनपीके 100
(आंकड़े मेट्रिक टन में)

बुवाई का अनुमान
फसल क्षेत्रफल
बाजरा 425000
मूंग 30000
मोठ 360000
मूंगफली 16000
तिल 1500
ग्वार 299500
(आंकड़े हैक्टेयर में)
------
खरीफ फसलों की बुवाई, उत्पादन के लक्ष्य तथा बीज व खाद की मांग तय कर ली है। बारिश की अनियमितता के कारण इस बार बुवाई कम होने के आसार हैं। इससे कुल उत्पादन भी घटेगा।
-हरपाल सिंह, कृषि अधिकारी, चूरू

1 comment:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

हिसाब-किताब

विजेट आपके ब्लॉग पर

ब्लॉग पर अपनी भाषा चुनें